कैसे शुरू हुई शुभ कावड़ यात्रा, कौन पहले कावड़िया थे? " - ॐ जय माता दी ॐ

Latest:

Translate

Search This Blog

“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥

Thursday, 30 April 2020

कैसे शुरू हुई शुभ कावड़ यात्रा, कौन पहले कावड़िया थे? "






सावन का महीना शुरू होते ही होते हैं और इसके साथ ही केसरिया कपड़े पहने शिवभक्तों के जत्थे गंगा का पवित्र जल शिवलिंग पर चढ़ाने निकल पड़ते हैं। ये जत्थे जिन्हें हम कावड़ियों के नाम से जानते हैं उत्तर भारत में सावन का महीना शुरू होते ही सड़कों पर दिखाई देने लगते हैं।)


पिछले दो दशकों से कावड़ यात्रा की लोकप्रियता बढ़ी है और अब समाज का उच्च एवं शिक्षित वर्ग भी कावड यात्रा में शामिल होने लगा है। लेकिन आप क्या जानते हैं कावड़ यात्रा का इतिहास, सबसे पहले कावड़िया कौन थे। यह अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग मान्यता है आइए जानें विस्तार से ...

1. आश्रम पहले कावड़िया-कुछ विद्वानों का मानना ​​है कि सबसे पहले भगवान परशुराम ने उत्तर प्रदेश के बागपत के पास स्थित े पुरा महादेव'का कावड़ से गंगाजल लाकर जलाभिषेक किया था।


परशुराम, इस प्रचीन शवलिंग का जलाभिषेक करने के लिए गढ़मुक्तेश्वर से गंगा जी का जल ला रहे थे। आज भी इस परंपरा का पालन करते हुए सावन के महीने में गढ़मुक्तेश्वर से जल लाकर लाखों लोग 'पुरा महादेव' का जलाभिषेक करते हैं। गढ़मुक्तेश्वर का वर्तमान नाम ब्रजघाट है।


2. श्रवण कुमार पहले कावड़िया-थे जबकि कुछ विद्वानों का कहना है कि सर्वप्रथम त्रेतागो में श्रवण कुमार ने पहली बार कावड़ यात्रा की थी। माता-पिता को तीर्थ यात्रा कराने के क्रम में श्रवण कुमारचल के ऊना क्षेत्र में थे, जहां उनके अंधेरे माता-पिता ने उन्हें मायापुरी यानि हरिद्वार में गंगा स्नान करने की इच्छा प्रकट की।


माता-पिता की इस इच्छा को पूरी करने के लिए श्रवण कुमार अपने माता-पिता को कावड़ में बैठा कर हरिद्वार लाए और उन्हें गंगा स्नान कराया। शरण में वे अपने साथ गंगाजल भी ले गए। इसे ही कावड़ यात्रा की शुरुआत माना जाता है।


3. भगवान राम ने की थी कावड़ यात्रा की शुरुआत-


कुछ मान्यताओं के अनुसार भगवान राम पहले कावडिया थे। उन्होंने बिहार के सुल्तानगंज से कावड़ में गंगाजल भरकर, बाबाधाम में शिवलिंग का जलाभिषेक किया था।


4. रावण ने की थी इस परंपरा की शुरुआत-


पुराणों के अनुसार कावड यात्रा की परंपरा, समुद्र मंथन से जुड़ी है। समुद्र मंथन से निकले विष को पी लेने के कारण भगवान शिव का कंठ नीला हो गया और वे नीलकंठ कहलाए। हालांकि विष के नकारात्मक प्रभावों ने शिव को घेर लिया।


शिव को विष के नकारात्मक प्रभावों से मुक्त कराने के लिए उनके अनन्य भक्त रावण ने ध्यान किया।तत्पश्चात कावड़ में जल भरकर रावण ने 'पुरा महादेव' स्थित शिवमंदिर में शिवजी का जल अभिषेक किया। इससे शिवजी विष के नकारात्मक प्रभावों से मुक्त हुए और यहीं से कावड़ यात्रा की परंपरा का प्रारंभ हुआ।


5. भगवान ने सर्वप्रथम शिव का किया जलाभिषेक किया था

कुछ मान्यताओं के अनुसार समुद्र मंथन से निकले हलाहल के प्रभावों को दूर करने के लिए देवताओं ने शिव पर पवित्र नदियों का शीतल जल चढ़ाईया था। सभी देवता शिवजी पर गंगाजी से जल लाकर अर्पित करने लगे। सावन मास में कावड़ यात्रा का प्रारंभ यहीं से हुआ।

No comments:

Post a comment