रामायण के अनुसार​ नारी गहने क्यों पहनती हैं ?​ - ॐ जय माता दी ॐ

Latest:

Translate

Search This Blog

“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥

Wednesday, 29 April 2020

रामायण के अनुसार​ नारी गहने क्यों पहनती हैं ?​



जय माता दी
भगवान राम ने धनुष तोड दिया था, सीताजी को सात फेरे लेने के लिए सजाया जा रहा था तो वह अपनी मां से प्रश्न पूछ बैठी, ​‘‘माताश्री इतना श्रृंगार क्यों?’’
‘‘बेटी विवाह के समय वधू का 16 श्रृंगार करना आवश्यक है, क्योंकि श्रृंगार वर या वधू के लिए नहीं किया जाता, यह तो आर्यवर्त की संस्कृति का अभिन्न अंग है?’’ उनकी माताश्री ने उत्तर दिया था।
‘‘अर्थात?’’ सीताजी ने पुनः पूछा, ​‘‘इस मिस्सी का आर्यवर्त से क्या संबंध?’’
‘‘बेटी, मिस्सी धारण करने का अर्थ है कि आज से तुम्हें बहाना बनाना छोड़ना होगा।’’
‘‘और मेहंदी का अर्थ?’’
मेहंदी लगाने का अर्थ है कि जग में अपनी लाली तुम्हें बनाए रखनी होगी।’’
‘‘और काजल से यह आंखें काली क्यों कर दी?’’
‘‘बेटी! काजल लगाने का अर्थ है कि शील का जल आंखों में हमेशा धारण करना होगा अब से तुम्हें।’’
‘‘बिंदिया लगाने का अर्थ माताश्री?’’
‘‘बेंदी का अर्थ है कि आज से तुम्हें शरारत को तिलांजलि देनी होगी और सूर्य की तरह प्रकाशमान रहना होगा।’’
‘‘यह नथ क्यों?’’
‘‘नथ का अर्थ है कि मन की नथ यानी किसी की बुराई आज के बाद नहीं करोगी, मन पर लगाम लगाना होगा।’’
‘‘और यह टीका?’’
‘‘पुत्री टीका यश का प्रतीक है, तुम्हें ऐसा कोई कर्म नहीं करना है जिससे पिता या पति का घर कलंकित हो, क्योंकि अब तुम दो घरों की प्रतिष्ठा हो।’’
‘‘और यह बंदनी क्यों?’’
‘‘बेटी बंदनी का अर्थ है कि पति, सास ससुर आदि की सेवा करनी होगी।’’
‘‘पत्ती का अर्थ?’’
‘‘पत्ती का अर्थ है कि अपनी पत यानी लाज को बनाए रखना है, लाज ही स्त्री का वास्तविक गहना होता है।’’
‘‘कर्णफूल क्यों?’’
‘‘हे सीते! कर्णफूल का अर्थ है कि दूसरो की प्रशंसा सुनकर हमेशा प्रसन्न रहना होगा।’’
‘‘और इस हंसली से क्या तात्पर्य है?’’
‘‘हंसली का अर्थ है कि हमेशा हंसमुख रहना होगा सुख ही नहीं दुख में भी धैर्य से काम लेना।’’
‘‘मोहनलता क्यों?’’
‘‘मोहनमाला का अर्थ है कि सबका मन मोह लेने वाले कर्म करती रहना।’’
‘‘नौलखा हार और बाकी गहनों का अर्थ भी बता दो माताश्री?’’
‘‘पुत्री नौलखा हार का अर्थ है कि पति से सदा हार स्वीकारना सीखना होगा, ​कडे का अर्थ है​ कि कठोर बोलने का त्याग करना होगा, ​बांक का अर्थ है​ कि हमेशा सीधा-सादा जीवन व्यतीत करना होगा, ​छल्ले का अर्थ है​ कि अब किसी से छल नहीं करना, ​पायल का अर्थ है​ कि बूढी बडियों के पैर दबाना, उन्हें सम्मान देना क्योंकि उनके चरणों में ही सच्चा स्वर्ग है और ​अंगूठी का अर्थ है​ कि हमेशा छोटों को आशीर्वाद देते रहना।’’
‘‘माताश्री फिर मेरे अपने लिए क्या श्रृंगार है?’’
‘‘बेटी आज के बाद तुम्हारा तो कोई अस्तित्व इस दुनिया में है ही नहीं, तुम तो अब से पति की परछाई हो, हमेशा उनके सुख-दुख में साथ रहना, वही तेरा श्रृंगार है और उनके आधे शरीर को तुम्हारी परछाई ही पूरा करेगी।’’
‘‘हे राम!’’ कहते हुए सीताजी मुस्करा दी।​ शायद इसलिए कि शादी के बाद पति का नाम भी मुख से नहीं ले सकेंगी, ​क्योंकि अर्धांगिनी होने से​ कोई स्वयं अपना नाम लेगा तो लोग क्या कहेंगे.

Jai Mata Di


Lord Rama had broken the bow, Sita was being decorated to take seven rounds, so she asked her mother the question, "Why is Mother Shree so adorned?"
"It is necessary for the bride to make 16 adornments at the time of her daughter's marriage, because the adornment is not done for the bride or groom, it is an integral part of the culture of Aryavarta?" His mother replied.
"That is?" Sitaji asked again, "How is this Missy related to Aryavarta?"
"Daughter, wearing missi means that from today you have to stop making excuses."
"And the meaning of mehndi?"
Applying mehndi means that you have to maintain your redness in the world. "
"And why did this blacken the eyes with kajal?"
''daughter! Applying mascara means that you will always have to keep the water of modesty in your eyes from now on. "
"Putting Bindiya means Mother?"
"Bandi means that from today onwards you have to give up the mischief and be as bright as the sun."
"Why this Nath?"
"Nath means that the nath of the mind, that is, will not do evil to anyone after today, will have to curb the mind."
"And this commentary?"
"Daughter Tika is a symbol of fame, you don't have to do any deed that tarnishes the father or husband's house, because now you are the prestige of two houses."
"And why this bandhani?"
"Beti bandani means that you have to serve your husband, in-laws, in-laws, etc."
"Meaning of leaf?"
"The leaf means to maintain your husband, Laz, it is the real jewel of a woman."
"Why aphrodisiac?"
"Oh Sita!" Karnaphool means that one will always be happy to hear the praise of others. "
"And what does this collarbone mean?"
"Hansali means to always be cheerful, to be patient not only in happiness but also in sorrow."
"Why Mohanlata?"
"Mohanmala means to keep on doing deeds that appeal to everyone."
"Also tell the meaning of Naulakha necklace and other jewels, mother?"
"Daughter Naulakha Haar means that the husband will always have to learn to accept defeat, Kade means to give up speaking harshly, Bank means to live a simple life always, of rings. That means no longer tricking anyone, Payal means to press the feet of old girls, respect them because there is a true heaven at their feet and the ring means to always bless the little ones. Be. ''
"Mother Shree then what is my makeup?"
"Daughter, after today, you don't have any existence in this world, you are a shadow of a husband from now on, always be with them in your happiness and sorrow, that is your makeup and only half your body will complete your shadow." ''
Sitaji smiled while saying "Hey Ram!" Maybe because after marriage, she won't even be able to take her husband's name from the mouth, because if someone takes her name after being an ardhangini, what will people say.

No comments:

Post a comment