Dasha-Mahavidyas Avatar दसा-महाविद्या अवतार (Devi Avtaar) - ॐ जय माता दी ॐ

Latest:

Translate

Search This Blog

“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥

Wednesday, 22 April 2020

Dasha-Mahavidyas Avatar दसा-महाविद्या अवतार (Devi Avtaar)

Dasha-Mahavidyas Avatar दसा-महाविद्या अवतार (Devi Avtaar)

पुराणों अनुसार जब भगवान शिव की पत्नी सती ने दक्ष के यज्ञ में जाना चाहा तब शिवजी ने वहां जाने से मना किया। इस इनकार पर माता ने क्रोधवश पहले काली शक्ति प्रकट की फिर दसों दिशाओं में दस शक्तियां प्रकट कर अपनी शक्ति की झलक दिखला दी। इस अति भयंकरकारी दृश्य को देखकर शिवजी घबरा गए। क्रोध में सती ने शिव को अपना फैसला सुना दिया, 'मैं दक्ष यज्ञ में जाऊंगी ही। या तो उसमें अपना हिस्सा लूंगी या उसका विध्वंस कर दूंगी।'

हारकर शिवजी सती के सामने आ खड़े हुए। उन्होंने सती से पूछा- 'कौन हैं ये?' सती ने बताया,‘ये मेरे दस रूप हैं। आपके सामने खड़ी कृष्ण रंग की काली हैं, आपके ऊपर नीले रंग की तारा हैं। पश्चिम में छिन्नमस्ता, बाएं भुवनेश्वरी, पीठ के पीछे बगलामुखी, पूर्व-दक्षिण में धूमावती, दक्षिण-पश्चिम में त्रिपुर सुंदरी, पश्चिम-उत्तर में मातंगी तथा उत्तर-पूर्व में षोड़शी हैं और मैं खुद भैरवी रूप में अभयदान देने के लिए आपके सामने खड़ी हूं।' यही दस महाविद्या अर्थात् दस शक्ति है। बाद में मां ने अपनी इन्हीं शक्तियां का उपयोग दैत्यों और राक्षसों का वध करने के लिए किया था।

नौ दुर्गा : 1.शैलपुत्री, 2.ब्रह्मचारिणी, 3.चंद्रघंटा, 4.कुष्मांडा, 5.स्कंदमाता, 6.कात्यायनी, 7.कालरात्रि, 8.महागौरी और 9.सिद्धिदात्री।


दस महा विद्या : 1.काली, 2.तारा, 3.त्रिपुरसुंदरी, 4.भुवनेश्वरी, 5.छिन्नमस्ता, 6.त्रिपुरभैरवी, 7.धूमावती, 8.बगलामुखी, 9.मातंगी और 10.कमला।

प्रवृति के अनुसार दस महाविद्या के तीन समूह हैं।

पहला : - सौम्य कोटि (त्रिपुर सुंदरी, भुवनेश्वरी, मातंगी, कमला),
दूसरा : - उग्र कोटि (काली, छिन्नमस्ता, धूमावती, बगलामुखी),
तीसरा : - सौम्य-उग्र कोटि (तारा और त्रिपुर भैरवी)।

According to the Puranas, when Lord Shiva's wife Sati wanted to go to the Yajna of Daksha, then Shiva refused to go there. On this refusal, Mother first expressed black power in anger and then she showed a glimpse of her power by manifesting ten powers in ten directions. Shiva was horrified at seeing this horrific scene. In anger, Sati gave her decision to Shiva, 'I will go to Daksha Yagya. Will either take my share in it or destroy it. '


After losing, Shivji stood in front of Sati. He asked Sati- 'Who is this?' Sati said, "These are my ten forms. Krishna standing in front of you is black in color, blue star is above you. Chinnamasta in the west, Bhuvaneshwari on the left, Bagalamukhi behind the back, Dhumavati in the east-south, Tripura Sundari in the south-west, Matangi in the west-north and Shodashi in the north-east and I myself stand in front of you to grant Bhairavi form. I am. This is the ten mahaavidya i.e. ten shakti. Later, mother used her powers to slay demons and demons.



Nine Durga: 1. Shailaputri, 2. Brahmacharini, 3. Chandraghanta, 4. Kushmanda, 5. Skandamata, 6. Kakatiyani, 7. Kaalratri, 8. Mahagauri and 9. Siddhidatri.

Ten Maha Vidya: 1.Kali, 2.Tara, 3.Tripurusundari, 4.Bhuvaneshwari, 5.Chinnamasta, 6.Tripurbhairavi, 7.Dhumavati, 8.Bagalamukhi, 9.Matangi and 10.Kamala.

According to the trend there are three groups of ten mahaavidya.

First: - Mild category (Tripura Sundari, Bhuvaneshwari, Matangi, Kamala),
Second: - fiery category (black, chinnamasta, dhoomvati, bagalamukhi),
Third: - Mild-furious category (Tara and Tripura Bhairavi).

Kali

Kali, Remover of DarknessFirst of all Sati took the form of Kali. Her form was fearful, her hair untied and loose, her body the color of a dark cloud. She had deep set eyes and eyebrows shaped like curved swords. She stood on a corpse, wore a garland of skulls, and earrings made from the bones of corpses. She had four hands – on one hand she had the head of a skull, and the other a curved sword with blood dripping on it. She had mudras on her other two hands – one giving freedom from fear and the other giving blessings. She roared and the ten directions were filled with that ferocious sound. The exploits of this Goddess Kali are outlined in the Chandi Path. She is the Goddess that killed Chanda and Munda and also drank the blood of Raktabija. She is known as Kaushiki, She who came from within, and is the Slayer of Shumbha and Nishumbha. Kali is the first of the Das Mahavidyas. She is beyond time. She takes away the darkness and fills us with the light of Wisdom, which is why She is the embodiment of Jnana Shakti. She resides in the cremation grounds, where all creation dissolves.
 काली : -
दस महाविद्या में काली प्रथम रूप है। माता का यह रूप साक्षात और जाग्रत है। काली के रूप में माता का किसी भी प्रकार से अपमान करना अर्थात खुद के जीवन को संकट में डालने के समान है। महा दैत्यों का वध करने के लिए माता ने ये रूप धरा था। सिद्धि प्राप्त करने के लिए माता की वीरभाव में पूजा की जाती है। काली माता तत्काल प्रसन्न होने वाली और तत्काल ही रूठने वाली देवी है। अत: इनकी साधना या इनका भक्त बनने के पूर्व एकनिष्ठ और कर्मों से पवित्र होना जरूरी होता है।

यह कज्जल पर्वत के समान शव पर आरूढ़ मुंडमाला धारण किए हुए एक हाथ में खड्ग दूसरे हाथ में त्रिशूल और तीसरे हाथ में कटे हुए सिर को लेकर भक्तों के समक्ष प्रकट होने वाली काली माता को नमस्कार। यह काली एक प्रबल शत्रुहन्ता महिषासुर मर्दिनी और रक्तबीज का वध करने वाली शिव प्रिया चामुंडा का साक्षात स्वरूप है, जिसने देव-दानव युद्ध में देवताओं को विजय दिलवाई थी। इनका क्रोध तभी शांत हुआ था जब शिव इनके चरणों में लेट गए थे।



कालिका के प्रमुख तीन स्थान है : - कोलकाता में कालीघाट पर जो एक शक्तिपीठ भी है। मध्यप्रदेश के उज्जैन में भैरवगढ़ में गढ़कालिका मंदिर इसे भी शक्तिपीठ में शामिल किया गया है और गुजरात में पावागढ़ की पहाड़ी पर स्थित महाकाली का जाग्रत मंदिर चमत्कारिक रूप से मनोकामना पूर्ण करने वाला है।


काली माता का मंत्र :

हकीक की माला से नौ माला 'क्रीं ह्नीं ह्नुं दक्षिणे कालिके स्वाहा:'
Tripurasundari

Tripurasundari, The Beauty of All the ThreesThe eighth Mahavidya is Tripurasundari, also known as Kamala. A form of Mahalakshmi, She symbolizes wealth. Her body is golden in color and She is seated on a gold lotus. Here is the story of Her origin. One day Indra, the ruler of the heavens, saw Rambha and was lost watching her beauty. At that time, the fierce Rishi Durvasa appeared and gave a garland to Indra. But Indra, still mesmerized by Rambha, did not realize what he was doing and gave the garland to his elephant Airavat. Durvasa was angry with the disrespect shown to him and immediately cursed Indra thus, “You are the King of the Gods, but yet you are playing with women. You will lose Lakshmi. She will leave your kingdom.” Goddess Lakshmi, true to the curse, left the heavenly regions. All the Gods were saddened, and led by Indra went to Vishnu to get His counsel. Vishnu suggested that Lakshmi would appear if they churned the ocean of milk. Both devas and asuras arrived at the ocean of milk (Ksheera samudra). They used Mount Mandara as the central axle and the serpent Anant Nag as a rope to move the mountain. Lord Vishnu took the form a large tortoise to support the Mountain. The asuras and the devas each took the opposite ends of the snake and churned the ocean. As they churned, a lot of beautiful beings and objects manifested including Ucchaisrava (the divine horse), Dhanvantari (the God of Medicine), the Sudharshana Chakra, the Parijata flower. And then came Lakshmi. When they saw Laksmi, the Gods offered Her an asan with the greatest respect. They did an abhishek to Her, offered Her a lotus garland and entreated Her to stay with them, to which She agreed. She became known as Tripurasundari. Tri means three, Pura means city, and Sundar means beautiful. Tripurasundari is the beautiful one of three cities, or all the threes. She manifests the perfection of compassion in all Nature.

त्रिपुर सुंदरी : 

षोडशी माहेश्वरी शक्ति की विग्रह वाली शक्ति है। इनकी चार भुजा और तीन नेत्र हैं। इसे ललिता, राज राजेश्वरी और ‍त्रिपुर सुंदरी भी कहा जाता है। इनमें षोडश कलाएं पूर्ण है इसलिए षोडशी भी कहा जाता है। ‍‍भारतीय राज्य त्रिपुरा में स्थित त्रिपुर सुंदरी का शक्तिपीठ है माना जाता है कि यहां माता के धारण किए हुए वस्त्र गिरे थे। त्रिपुर सुंदरी शक्तिपीठ भारतवर्ष के अज्ञात 108 एवं ज्ञात 51 पीठों में से एक है।

दक्षिणी-त्रिपुरा उदयपुर शहर से तीन किलोमीटर दूर, राधा किशोर ग्राम में राज-राजेश्वरी त्रिपुर सुंदरी का भव्य मंदिर स्थित है, जो उदयपुर शहर के दक्षिण-पश्चिम में पड़ता है। यहां सती के दक्षिण 'पाद' का निपात हुआ था। यहां की शक्ति त्रिपुर सुंदरी तथा शिव त्रिपुरेश हैं। इस पीठ स्थान को 'कूर्भपीठ' भी कहते हैं।

उल्लेखनीय है कि महाविद्या समुदाय में त्रिपुरा नाम की अनेक देवियां हैं, जिनमें त्रिपुरा-भैरवी, त्रिपुरा और त्रिपुर सुंदरी विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं।


त्रिपुर सुंदरी माता का मंत्र :  

' ह्नीं श्रीं त्रिपुर सुंदरीयै नम:'

Chinnamasta

Listen to the story of Her origin from the Pancharatna Grantha. Once Parvati went with Her friends Dakini and Varnini to take a bath in the Mandakini River. Parvati was feeling very happy and a lot of love was welling up inside Her. Her complexion darkened and the feeling of love completely took over. Her friends on the other hand were hungry and asked Parvati to give them some food. Parvati requested them to wait and said that She would feed them after a while, and began walking. After a short while, Her friends once again appealed to Her, telling Her that She was the Mother of the Universe and they Her children, and asked to be fed quickly. Parvati replied that they should wait until they got home. Her friends could not wait any longer and demanded that their hunger be satisfied immediately. The compassionate Parvati laughed and with her finger nail cut Her own head. Immediately the blood spurted in three directions. Her two friends drank the blood from two of the directions and the Goddess herself drank the blood from the third direction. Since she cut Her own head, she is known as Cinnamasta. Cinnamasta shines like a lightning bolt from the Sun. She demonstrates the rare courage needed to make the highest conceivable sacrifice. May we imbue that very same courage from that daring Goddess!
छिन्नमस्ता :- 

इस परिवर्तन शील जगत का अधिपति कबंध है और उसकी शक्ति छिन्नमस्ता है। इनका सिर कटा हुआ और इनके कबंध से रक्त की तीन धाराएं बह रही है। इनकी तीन आंखें हैं और ये मदन और रति पर आसीन है। देवी के गले में हड्डियों की माला तथा कंधे पर यज्ञोपवीत है। इसलिए शांत भाव से इनकी उपासना करने पर यह अपने शांत स्वरूप को प्रकट करती हैं। उग्र रूप में उपासना करने पर यह उग्र रूप में दर्शन देती हैं जिससे साधक के उच्चाटन होने का भय रहता है।

माता का स्वरूप अतयंत गोपनीय है। चतुर्थ संध्याकाल में मां छिन्नमस्ता की उपासना से साधक को सरस्वती की सिद्ध प्राप्त हो जाती है। कृष्ण और रक्त गुणों की देवियां इनकी सहचरी हैं। पलास और बेलपत्रों से छिन्नमस्ता महाविद्या की सिद्धि की जाती है। इससे प्राप्त सिद्धियां मिलने से लेखन बुद्धि ज्ञान बढ़ जाता है। शरीर रोग मुक्त होताते हैं। सभी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष शत्रु परास्त होते हैं। यदि साधक योग, ध्यान और शास्त्रार्थ में साधक पारंगत होकर विख्यात हो जाता है।

कामाख्या के बाद दुनिया के दूसरे सबसे बड़े शक्तिपीठ के रूप में विख्यात मां छिन्नमस्तिके मंदिर काफी लोकप्रिय है। झारखंड की राजधानी रांची से लगभग 79 किलोमीटर की दूरी रजरप्पा के भैरवी-भेड़ा और दामोदर नदी के संगम पर स्थित मां छिन्नमस्तिके का यह मंदिर है। रजरप्पा की छिन्नमस्ता को 52 शक्तिपीठों में शुमार किया जाता है।


छिन्नमस्ता का मंत्र :  


'श्रीं ह्नीं ऎं वज्र वैरोचानियै ह्नीं फट स्वाहा'
Dhumavati

Dhumavati, The Remover of FrustrationThe seventh Mahavidya is Dhumavati. Here is the story of Her origin. One day Mahadev was sitting in Kailash and Parvati was on his lap. She told Shiva that She was very hungry and requested Him to get Her some food. Shiva asked Her to wait awhile and so saying went back into meditation. Parvati once again asked Shiva, “Hey Father of the Universe, please give me some food, I cannot wait any longer”. When Shiva asked Her to wait a second time, Parvati was so hungry that She became aggressive. The third time this happened, Parvati could bear no more and she ate Shiva to appease Her hunger. Immediately smoke started to come from within Her body. Shiva, who was inside her body, had opened His third eye and He said to Parvati, “Without me, there is no Purusha in the universe, only Prakriti, as only You exist.” For this reason, this is the widow form of the Goddess known as Dhumavati. Dhuma means smoke, and She is depicted without any ornaments and in widow apparel. Dhumavati demonstrates renunciation and removes all frustration and agitation, and is free from disrepute.
 धूमावती : 

धूमावती का कोई स्वामी नहीं है। इसलिए यह विधवा माता मानी गई है। इनकी साधना से जीवन में निडरता और निश्चंतता आती है। इनकी साधना या प्रार्थना से आत्मबल का विकास होता है। इस महाविद्या के फल से देवी धूमावती सूकरी के रूप में प्रत्यक्ष प्रकट होकर साधक के सभी रोग अरिष्ट और शत्रुओं का नाश कर देती है। प्रबल महाप्रतापी तथा सिद्ध पुरूष के रूप में उस साधक की ख्याति हो जाती है।

मां धूमावती महाशक्ति स्वयं नियंत्रिका हैं। ऋग्वेद में रात्रिसूक्त में इन्हें 'सुतरा' कहा गया है। अर्थात ये सुखपूर्वक तारने योग्य हैं। इन्हें अभाव और संकट को दूर करने वाली मां कहा गया है।

इस महाविद्या की सिद्धि के लिए तिल मिश्रित घी से होम किया जाता है। धूमावती महाविद्या के लिए यह भी जरूरी है कि व्यक्ति सात्विक और नियम संयम और सत्यनिष्ठा को पालन करने वाला लोभ-लालच से दूर रहें। शराब और मांस को छूए तक नहीं।


धूमावती का मंत्र : 



' धूं धूं धूमावती देव्यै स्वाहा:'
Matangi

One day Maheshwari went to Shiva to obtain permission to go to Her father’s house. Shiva wanted to go with Her, but would not go without being invited. Parvati laughed and said the He should go with her. Shiva replied that He would not go with Her, but would come to escort Her back. In Her absence, Shiva began to long for Her and decided to visit Her in the disguise of an ornament vendor. When She selected the ornaments and asked for the price, Shiva told Her that if She fulfilled his desire, He would give Her the ornaments. Parvati was astounded that somebody would dare suggest such a thing to Her. Then She realized that the vendor was none other than Her Lord Shiva. She told Shiva that She would fulfill His desire, but not just then and sent Him away. Later that evening, She went with a friend to where Mahadev was praying. She took the form of a beautiful outcaste girl, a chandali, and approached him thinking that He would not recognize her. Seeing Her, Shiva called out, “Hey beautiful lady (Shubhangi), who are You and why have You come here?” Parvati said, “I am a chandali, I am here to do tapasya to become a Goddess, so please do not disturb me.” Then Shiva said, “I am Shiva, I give the fruit of tapasya. If you marry me, I will make you like Parvati, without a doubt.” Parvati understood that Shiva had seen through Her disguise and bowed to Him. She said, “Hey Devadi-deva, nobody can hide anything from You,” and was very happy with this interlude. Shiva said, “Devi, you took this form because you wanted to pray to me, and so I give you the name Matangi. Matangi is the measurement of all the limbs of creation and Supreme Goddess of all desires. Shree Maa says that anyone prays to Matangi will attain perfection.
मातंगी : 

मतंग शिव का नाम है। शिव की यह शक्ति असुरों को मोहित करने वाली और साधकों को अभिष्ट फल देने वाली है। गृहस्थ जीवन को श्रेष्ठ बनाने के लिए लोग इनकी पूजा करते हैं। अक्षय तृतीया अर्थात वैशाख शुक्ल की तृतीया को इनकी जयंती आती है।

यह श्याम वर्ण और चन्द्रमा को मस्तक पर धारण करती हैं। यह पूर्णतया वाग्देवी की ही पूर्ति हैं। चार भुजाएं चार वेद हैं। मां मातंगी वैदिकों की सरस्वती हैं।

पलास और मल्लिका पुष्पों से युक्त बेलपत्रों की पूजा करने से व्यक्ति के अंदर आकर्षण और स्तम्भन शक्ति का विकास होता है। ऐसा व्यक्ति जो मातंगी महाविद्या की सिद्धि प्राप्त करेगा, वह अपने क्रीड़ा कौशल से या कला संगीत से दुनिया को अपने वश में कर लेता है। वशीकरण में भी यह महाविद्या कारगर होती है।


मातंगी माता का मंत्र :  

' ह्नीं  भगवती मतंगेश्वरी श्रीं स्वाहा:'
Tara

Tara, the Illuminator of all AttitudesWhen Lord Shiva bade Sati not to attend Her Father’s yajna, Sati became furious and assumed the fearful form of Kali causing Shiva to flee in another direction. Sati then assumed the form of the ninth Mahavidya, Tara. Tara is blue, Her tongue is fearfully sticking out, and Her face is terrifying. Her hair is tangled like snakes sticking straight up and She is dressed in a tiger’s skin. On Her head are five half moons. She has three eyes, four arms, a large protruding belly, and stands on a corpse. She has four arms in which She holds a lotus, a sword, a drinking bowl, and a bell. Tara is the illuminator, She illuminates all our attitudes.
 तारा : - 

तांत्रिकों की प्रमुख देवी तारा। तारने वाली कहने के कारण माता को तारा भी कहा जाता है। सबसे पहले महर्षि वशिष्ठ ने तारा की आराधना की थी। शत्रुओं का नाश करने वाली सौन्दर्य और रूप ऐश्वर्य की देवी तारा आर्थिक उन्नति और भोग दान और मोक्ष प्रदान करने वाली हैं।


भगवती तारा के तीन स्वरूप हैं : - तारा , एकजटा और नील सरस्वती।

तारापीठ में देवी सती के नेत्र गिरे थे, इसलिए इस स्थान को नयन तारा भी कहा जाता है। यह पीठ पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिला में स्थित है। इसलिए यह स्थान तारापीठ के नाम से विख्यात है। प्राचीन काल में महर्षि वशिष्ठ ने इस स्थान पर देवी तारा की उपासना करके सिद्धियां प्राप्त की थीं। इस मंदिर में वामाखेपा नामक एक साधक ने देवी तारा की साधना करके उनसे सिद्धियां हासिल की थी।

तारा माता के बारे में एक दूसरी कथा है कि वे राजा दक्ष की दूसरी पुत्री थीं। तारा देवी का एक दूसरा मंदिर हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला से लगभग 13 किमी की दूरी पर स्थित शोघी में है। देवी तारा को समर्पित यह मंदिर, तारा पर्वत पर बना हुआ है। तिब्बती बौद्ध धर्म के लिए भी हिन्दू धर्म की देवी 'तारा' का काफी महत् है।

चैत्र मास की नवमी तिथि और शुक्ल पक्ष के दिन तारा रूपी देवी की साधना करना तंत्र साधकों के लिए सर्वसिद्धिकारक माना गया है। जो भी साधक या भक्त माता की मन से प्रार्धना करता है उसकी कैसी भी मनोकामना हो वह तत्काल ही पूर्ण हो जाती है।


तारा माता का मंत्र :

नीले कांच की माला से बारह माला प्रतिदिन 'ऊँ ह्नीं स्त्रीं हुम फट'
Bhuvanesvari

Bhuvaneswari, the Ruler of the UniverseBhuvanesvari is the fourth Mahavidya. Bhuvan means the Universe, and Iswari means the Ruler, and therefore She is the Ruler of the Universe. She is also known as Rajarajeswari and protects the Universe. Here is the story of her manifestation from the “Pranatoshini Grantha”. Brahma had the desire to create the Universe, and he did intense tapasya to invite the energy of Creation, Kriya Shakti. Parameswari, pleased with his tapasya responded to his invitation and came as Bhu devi or Bhuvanesvari. She is red in color, seated on a lotus flower. Her body is resplendent and shining with jewels. She holds a noose (paasham) and a curved sword (ankusham) in two of her hands and the other two assume the mudras of blessing and freedom from fear. She resides in Shiva’s heart. Bhuvanesvari is the Supreme Empress of Manifested Existence, the exposer of consciousness.
भुवनेश्वरी :- 

भुवनेश्वरी को आदिशक्ति और मूल प्रकृति भी कहा गया है। भुवनेश्वरी ही शताक्षी और शाकम्भरी नाम से प्रसिद्ध हुई। पुत्र प्राप्ती के लिए लोग इनकी आराधना करते हैं।

आदि शक्ति भुवनेश्वरी मां का स्वरूप सौम्य एवं अंग कांति अरुण हैं। भक्तों को अभय एवं सिद्धियां प्रदान करना इनका स्वभाविक गुण है। इस महाविद्या की आराधना से सूर्य के समान तेज और ऊर्जा प्रकट होने लगती है। ऐसा व्यक्ति अच्छे राजनीतिक पद पर आसीन हो सकता है। माता का आशीर्वाद मिलने से धनप्राप्त होता है और संसार के सभी शक्ति स्वरूप महाबली उसका चरणस्पर्श करते हैं।


भुवनेश्वरी माता का मंत्र : 
'ह्नीं भुवनेश्वरीयै ह्नीं नम:'
Tripura Bhairavi

The tenth form of Mahavidya is Bhairavi. She has many names including Tripura Bhairavi, Sampath Praja Bhairavi, Kaulesh Bhairavi, Siddhida Bhairavi, Bhay Vidwamsi Bhairavi, Chaitanya Bhairavi, Kameshwari Bhairavi, Nitya Bhairavi and Rudra Bhairavi. Her body is the color of the rising sun. She wears a pearl necklace around her neck, has red breasts and has four hands in which She holds a japa mala, pustak, and displays the mudras of blessing and freedom from fear. She has three eyes that are red in color and wears a moon on Her forehead. Bhairavi is the form of Kali that killed Chanda and Munda. She is free from all fear and frees us from all fear.




त्रिपुर भैरवी :-

त्रिपुर भैरवी की उपासना से सभी बंधन दूर हो जाते हैं। यह बंदीछोड़ माता है। भैरवी के नाना प्रकार के भेद बताए गए हैं जो इस प्रकार हैं त्रिपुरा भैरवी, चैतन्य भैरवी, सिद्ध भैरवी, भुवनेश्वर भैरवी, संपदाप्रद भैरवी, कमलेश्वरी भैरवी, कौलेश्वर भैरवी, कामेश्वरी भैरवी, नित्याभैरवी, रुद्रभैरवी, भद्र भैरवी तथा षटकुटा भैरवी आदि। त्रिपुरा भैरवी ऊर्ध्वान्वय की देवता हैं।

माता की चार भुजाएं और तीन नेत्र हैं। इन्हें षोडशी भी कहा जाता है। षोडशी को श्रीविद्या भी माना जाता है। यह साधक को युक्ति और मुक्ति दोनों ही प्रदान करती है। इसकी साधना से षोडश कला निपुण सन्तान की प्राप्ति होती है। जल, थल और नभ में उसका वर्चस्व कायम होता है। आजीविका और व्यापार में इतनी वृद्धि होती है कि व्यक्ति संसार भर में धन श्रेष्ठ यानि सर्वाधिक धनी बनकर सुख भोग करता है।

जीवन में काम, सौभाग्य और शारीरिक सुख के साथ आरोग्य सिद्धि के लिए इस देवी की आराधना की जाती है। इसकी साधना से धन सम्पदा की प्राप्ति होती है, मनोवांछित वर या कन्या से विवाह होता है। षोडशी का भक्त कभी दुखी नहीं रहता है।

देवी कथा : नारद-पाञ्चरात्र के अनुसार एक बार जब देवी काली के मन में आया कि वह पुनः अपना गौर वर्ण प्राप्त कर लें तो यह सोचकर देवी अन्तर्धान हो जाती हैं। भगवान शिव जब देवी को को अपने समक्ष नहीं पाते तो व्याकुल हो जाते हैं और उन्हें ढूंढने का प्रयास करते हैं। शिवजी, महर्षि नारदजी से देवी के विषय में पूछते हैं तब नारदजी उन्हें देवी का बोध कराते हैं वह कहते हैं कि शक्ति के दर्शन आपको सुमेरु के उत्तर में हो सकते हैं। वहीं देवी की प्रत्यक्ष उपस्थित होने की बात संभव हो सकेगी। तब भोले शिवजी की आज्ञानुसार नारदजी देवी को खोजने के लिए वहां जाते हैं। महर्षि नारदजी जब वहां पहुंचते हैं तो देवी से शिवजी के साथ विवाह का प्रस्ताव रखते हैं यह प्रस्ताव सुनकर देवी क्रुद्ध हो जाती हैं और उनकी देह से एक अन्य षोडशी विग्रह प्रकट होता है और इस प्रकार उससे छाया विग्रह 'त्रिपुर-भैरवी' का प्राकट्य होता है।


त्रिपुर भैरवी का मंत्र :


'ह्नीं भैरवी क्लौं ह्नीं स्वाहा:'
Bhagalamukhi

Listen to her story. Once the creation was in turmoil and being destroyed in many places (Shree Maa adds, “like the present scenario in the world”). Brahma became worried about His creation and wondered what the outcome of this turmoil would be. He then meditated to bring peace to the universe. Not succeeding, He then performed severe tapasya to obtain the blessings of Tripurambika – the Mother of the Three Worlds. Pleased with His austerities, She appeared before Him as Mother Bagala in a yellow form and gave him a boon. Bagala grants all kinds of perfection to devotees who pray to Her. Here is another story of Her origin. Once an asura named Ruru, the son of Durgam, performed severe penance to win the favor of Brahma. Since Ruru was already very powerful, the Gods became very apprehensive of what might happen if he obtained a boon from Brahma. So they did aradhana (propitiation) to yellow water (Shree Maa says here, that yellow intuitively means peace). Pleased with their tapasya, the Divine Mother appeared as Bagala. Bagala is the Goddess who stops all motion at the appropriate time, silences the mouths and words of all evil beings, and controls their tongue
 बगलामुखी : - 

माता बगलामुखी की साधना युद्ध में विजय होने और शत्रुओं के नाश के लिए की जाती है। बगला मुखी के देश में तीन ही स्थान है। कृष्ण और अर्जुन ने महाभातर के युद्ध के पूर्व माता बगलामुखी की पूजा अर्चना की थी। इनकी साधना शत्रु भय से मुक्ति और वाक् सिद्धि के लिए की जाती है।

जिसकी साधना सप्तऋषियों ने वैदिक काल में समय समय पर की है। इसकी साधना से जहां घोर शत्रु अपने ही विनाश बुद्धि से पराजित हो जाते हैं वहां साधक का जीवन निष्कंटक तथा लोकप्रिय बन जाता है।


बगलामुखी का मंत्र :  


' ह्नीं बगुलामुखी देव्यै ह्नीं  नम:'

दूसरा मंत्र-

'ह्मीं बगलामुखी सर्व दुष्टानां वाचं मुखं पदं स्तम्भय जिह्वां कीलम बुद्धिं विनाशय ह्मीं  स्वाहा।'



भारत में मां बगलामुखी के तीन ही प्रमुख ऐतिहासिक मंदिर माने गए हैं जो क्रमश: दतिया (मध्यप्रदेश), कांगड़ा (हिमाचल) तथा नलखेड़ा जिला शाजापुर (मध्यप्रदेश) में हैं। तीनों का अपना अलग-अलग महत्व है।
Kamalatmika

Kamalatmika is the Goddess Devi in the fullness of her graceful aspect. She is shown as seated on a lotus, symbol of purity. Kamala is a beautiful young woman with a shining complexion. Kamalatmika is the 10th Mahavidya. She is also known as Kamala. Kamala like Lakshmi is a goddess of fortune, ritches, fertility and conception of children, fame, and material well being.
कमला : - 

दरिद्रता, संकट, गृहकलह और अशांति को दूर करती है कमलारानी। इनकी सेवा और भक्ति से व्यक्ति सुख और समृद्धि पूर्ण रहकर शांतिमय जीवन बिताता है।

श्वेत वर्ण के चार हाथी सूंड में सुवर्ण कलश लेकर सुवर्ण के समान कांति लिए हुए मां को स्नान करा रहे हैं। कमल पर आसीन कमल पुष्प धारण किए हुए मां सुशोभित होती हैं। समृद्धि, धन, नारी, पुत्रादि के लिए इनकी साधना की जाती है।

इस महाविद्या की साधना नदी तालाब या समुद्र में गिरने वाले जल में आकंठ डूब कर की जाती है। इसकी पूजा करने से व्यक्ति साक्षात कुबेर के समान धनी और विद्यावान होता है। व्यक्ति का यश और व्यापार या प्रभुत्व संसार भर में प्रचारित हो जाता है।


कमला माता का मंत्र : 

कमलगट्टे की माला से रोजाना दस माला 'हसौजगत प्रसुत्तयै स्वाहा:'


No comments:

Post a comment