SHREE MAHAGANAPATI-RANJANGAON - ॐ जय माता दी ॐ

Latest:

Translate

Search This Blog

“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥

Wednesday, 22 April 2020

SHREE MAHAGANAPATI-RANJANGAON

SHREE MAHAGANAPATI-RANJANGAON

श्री महागानापति-रणजागांव

श्री शम्भुवरप्रदा सुतपसा नमना सहस्त्र सकाम |
दतवा श्री विजय पदम शिवकर तस्म प्रसन्ना प्रभु ||
दस शत इव सदगुणवपौ क्षत्रे सदातिष्टि |
तम वन्दे मणिपुरके गणपति देवम महंत मुद्रा || ४ ||


भावार्थ: भगवान शिवशंकर ने भगवान श्री गणेश को प्रणाम करके वरदान प्राप्त किया। मणिपुर में रहने वाले श्री गणेश को नमस्कार, जिन्होंने महादेव को वरदान दिया, जिनकी उपस्थिति सुंदर और मनभावन है और जो अच्छे गुणों से युक्त हैं।

SHREE MAHAGANAPATI का मंदिर और IDOL

पूर्व की ओर वाले मंदिर में विशाल और सुंदर प्रवेश द्वार है। दो दरवाजे रखने वाले अर्थात् जय और विजय द्वार के पास मौजूद हैं। नगरखाना प्रवेश द्वार के ऊपर स्थित है। 3 मई, 1997 को महाराष्ट्र के माननीय मुख्यमंत्री श्री मनोहर जोशी द्वारा इस नगरखान का उद्घाटन किया गया था।

        पूर्व की ओर मुड़ी हुई मूर्ति विस्तृत माथे के साथ एक क्रॉस की हुई बैठने की स्थिति में है और धड़ बाईं ओर मुड़ गया है। ऋद्धि और सिद्धि महागणपति के किनारों पर हैं।

ऐसा कहा जाता है कि, महागणपति की मूल मूर्ति तहखाने में एक कॉलर में छिपी हुई है। यह भी कहा जाता है कि इसमें 10 चड्डी और 20 हाथ हैं। उस मूर्ति पर ध्यान लगाने को महागणपति ध्यान कहा जाता है। आमतौर पर मूर्ति को बाहर नहीं निकाला जाता है। मुस्लिम निमंत्रण के डर से, अच्छे पुराने दिनों में कि मूर्ति को छिपा दिया गया था। गणेश को मुतक्का कहा जाता है। हालांकि, मंदिर के ट्रस्ट ने ऐसी मूर्ति के बहिष्कार से इनकार कर दिया है सेलर में।
Shree Shambhuvarprada Sutapasa Namna Sahastra Sakam |
Datwa Shree Vijay Padam Shivkar Tasme Prasanna Prabhu ||
Ten sthapit Eva Sadgunavapu Kshetre Sadatishtati |
Tam Vande Manipurke Ganapati Devam Mahant Mudra ||4||


Meaning :
 Lord Shivshankar obtained a boon by propitiating Lord Shree Ganesh.I salute shri Ganesh who stays at Manipur , who gave boon to Mahadev,whose appearence is beautiful & pleasing & who is state of good qualities.
SHREE MAHAGANAPATI'S TEMPLE & IDOL
Temple facing east has huge & beautiful entrance gate.Idols of two door keepers namely Jay & Vijay are present near the gateway. Nagarkhana is situated above the entrance gate. This Nagarkhana was inagurated by Maharashtra's honourable chief minister Shri Monoher Joshi on 3rd May,1997.
        Idol facing east is in a crossed legged sitting position with broad forehead & the trunk turned towards the left. Riddhi & Siddhi are on the sides of Mahaganapati.
It is said that , original idol of Mahaganapati is hidden in a caller in the basement.It is also said that it has 10 trunks & 20 hands. Meditating on that idol is called Mahaganapati Dhyan.That idol is not taken out usually.Due to fear of Muslim invation,in good old days that idol was hidden.That Ganesh is called Mootka.However , temple trustees has refused exixtence of such an idol in the celler.

No comments:

Post a comment