Vishwakarma Puja-विश्वकर्मा पूजा - ॐ जय माता दी ॐ

Latest:

Translate

Search This Blog

“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥

Monday, 27 April 2020

Vishwakarma Puja-विश्वकर्मा पूजा

भारत देश में अनेक हिन्दू धर्म के त्यौहार मनाये जाते है। उन्ही त्यौहार में से विश्वकर्मा पूजा भी एक बहुत प्रसिद्ध हिन्दू त्यौहार है। विश्वकर्मा पूजा हर साल 17 सितम्बर को बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। कई जगह दिवाली से अगले दिन भी भगवान विश्वकर्मा जी की पूजा की जाती है

11 सदी पुराना है ये मंदिर, मुरादों और रहस्य के लिए दुनिया झुकाती है शीश

हमारे देश में रेल से लेकर सुई तक बड़े-बड़े इंजीनयर की सहायता से बनाये जाते है। तो क्या कभी सोचा है की ये जो ब्रह्माण्ड है उसे तो भी किसी ने बनाया ही होगा या किसी के द्वारा बनाया गया होंगा

तो इसका जवाब हिन्दू धर्म में देवताओ के इंजीनयर यानि शिल्पकार देव भगवान विश्वकर्मा को माना जाता है।

पुराणों के अनुसार सृस्टि की रचना आदिदेव ब्रह्मा जी को माना जाता है। विश्वकर्मा जी की सहायता से इस सृष्टि का निर्माण हुआ, इसी कारण इन्हें आज के समय में देवताओ का इंजीनियर भी कहा जाता है।

जन्म की कथा:-

हिन्दू धर्म शास्त्रो के अनुसार सबसे ब्रह्मा जी के पुत्र धर्म के सातवे संतान जिनका नाम वास्तु था। विश्वकर्मा जी वास्तु के पुत्र थे जो अपने माता-पिता की भांति महान शिल्पकार हुए जिन्होंने इस सृस्टि में अनेको प्रकार के निर्माण इन्ही के द्वारा हुआ।

देवताओ का स्वर्ग हो या लंका के रावण की सोने की लंका हो या भगवान कृष्ण जी की द्वारिका और पांडवो की राजधानी हस्तिनापुर इन सभी राजधानियों का निर्माण भगवान विश्वकर्मा द्वारा की गयी है। जो की वास्तु कला की अद्भुत मिशाल है। विश्वकर्मा जी को औजारों का देवता भी कहा जाता है।

पूजा विशेष:-

विश्वकर्मा पूजा के दिन भारत देश के विभिन राज्यो में तो सार्वजानिक अवकाश भी रहता है। चूँकि जैसा की मान्यता है की विश्वकर्मा जी की पूजा करने से व्यापार में तरक्की होती है इसलिए इस दिन फैक्ट्री, कल कारखानों, हार्डवेयर की दुकानों में विश्वकर्मा पूजा बड़े ही धूम धाम से मनाया जाता है।

जानिए. क्यों करना चाहिए महामृत्युंजय मन्त्र का पाठ

इस दिन सभी लोग जो मशीनों औजरो आदि से अपना काम करते है। वे सुबह सबसे पहले अपने कल कारखानों की सफाई के साथ अपने मशीनों और औजारों की भी अच्छी तरह से साफ़ सफाई किया जाता है फिर इसके बाद विश्वकर्मा भगवान की विधिवत पूजा की जाती है।

इस दिन कल कारखानो में बड़े ही हर्सोल्लास के साथ भगवान विश्वकर्मा जी की मूर्ति स्थापित की जाती है। कई सार्वजानिक जगहों पर भी विश्वकर्मा जी की मूर्ति स्थपित की जाती है।

Many Hindu festivals are celebrated in India. Among those festivals, Vishwakarma Puja is also a very famous Hindu festival. Vishwakarma Puja is celebrated every year on 17 September with great pomp. In many places, Lord Vishwakarma is also worshiped the next day from Diwali.

This temple is 11 century old, the world tilts for wishes and secrets

In our country, from rail to needle, big engineers are made with the help of engineers. So, have you ever thought that the universe, it must have been created by someone or created by someone

So the answer is believed to be the engineer of Gods in the Hindu religion, ie the craftsman Dev Lord Vishwakarma.

According to the Puranas, the creation of creation is believed to be Addev Brahma. This creation was created with the help of Vishwakarma ji, that is why he is also called the engineer of gods in today's time.

Story of birth: -

According to Hindu scriptures, the seventh child of Dharma, whose name was Vaastu, was the son of Brahma. Vishwakarma ji was the son of Vastu who, like his parents, became a great craftsman, who built many types of things in this creation.

Whether it is the heaven of the gods or the gold Lanka of Ravana of Lanka or the Dwarka of Lord Krishna and the capital of Pandavas, Hastinapur, all these capitals have been constructed by Lord Vishwakarma. Which is a wonderful example of architectural art. Vishwakarma ji is also called the God of Tools.

Puja special: -

On the day of Vishwakarma Puja, there is also a public holiday in various states of India. As it is believed that worshiping Vishwakarma ji leads to growth in business, on this day Vishwakarma Puja is celebrated with great pomp in the factory, tomorrow factories and hardware shops.

Learn. Why should recite Mahamrityunjaya Mantra

On this day all people who do their work with machines, tools etc. They firstly clean their machines and tools in the morning along with cleaning their factories and then duly worshiping Lord Vishwakarma.

On this day tomorrow, a statue of Lord Vishwakarma is installed in Karkano with great horse-shoe. The statue of Vishwakarma is also installed in many public places.

No comments:

Post a comment